Wednesday, January 12, 2011

PYAJ ...ISSUE

1 comment:

Abnish Singh Chauhan said...

बहुत तीखा व्यंग है भारतीय संस्कृति में आये जबरदस्त बदलाव पर . साथ ही आज की इस समस्या को भी सलीके से उजागर कर रहा यह कार्टून और पंक्तियाँ . मेरी बधाई स्वीकारें -अवनीश सिंह चौहान